कितना मुश्किल है कुछ कहना …

Vinay kumar pandey

कितना मुश्किल है कुछ कहना
कुछ बातें किसी को बता देना
और उनका समझ जाना
सम्भवतः ऐसा कभी होता नहीं

चुप रहते तो भी सही था
पर अक्सर वे अर्थ बदल लेते हैं
इसीलिए सामंजस्य नहीं बन पाता
फिर भी लोग दूसरों से कह लेते हैं…

Follow him  on instagram @kavi_nay_   for more poems.

Read latest poem “वो इश्क़ है …. ” by Vinay Kumar Pandey.

2 thoughts on “कितना मुश्किल है कुछ कहना …”

Leave a Reply