वो लड़की विदा होने वाली

URL

Vinay kr pandey

Screenshot_2021-07-21-12-51-31-73_6f8f7a6a69f2aa2976412416ecb84f7a

Read next Hindi Poem from our regular visitor Vinay Kumar Pandey. He is my junior at my college.

पुरूष प्रधान यह समाज है
ज्ञान ,शिक्षा का मतलब गजब

स्त्री को पढ़ने का अधिकार नहीं
दुनिया की है, यह रीति अजब

दूसरे पर आश्रित रहने वाली
वो लड़की विदा होने वाली

दुख के आंसू ना रोती वह
अपने पिता को गले लगती जब

संभल जाती वह लड़खड़ाने से
खुद के पैरों पर खड़ी होती जब

Click on the URL to visit his instagram page and follow him.

Thank you Vinay for sharing your poem with us!🙏🏻

Leave a Reply